फिल्म कैसे बनाएं | movie kaise banaye | - wiki hindi ~ wiki hindi

फिल्म कैसे बनाएं | movie kaise banaye | - wiki hindi

एक फिल्म बनाना production  pre production और post production इन 3 steps  में डिवाइड हुआ है। लोग फ़िल्म बनाने के लिए क्या करते है उतनाही इम्पोर्टेन्ट है जितना कैमरा की रोलिंग शुरू होने से पहले लोग करते है। स्टोरीबोर्ड और फिल्मों को स्क्रिप्ट को बढ़िया लिखे और आपने ने अपनी सभी जरूरतों के लिए बजट दिया है और उनके संगीत और visual के लिए कॉपीराइट अनुमतियां हैं या नही यह सुनिश्चित करे। अन्यथा आपकी फ़िल्म लोगों को दिखाने में और पब्लिक टॉकीज तक लाने में सफल नही होगी।
 Story board script यह फ़िल्म प्रोड्यूस करने का सबसे इम्पोर्टेन्ट पार्ट है । आप फ़िल्म चलाने के लिए सबसे महंगी किट और बेस्ट एक्टर्स को ले सकते हैं, और फिर भी अगर स्क्रीप्ट अच्छी नही होगी  तो एक बेस्ट एक्टर लेने के बावजूद एक खराब फ़िल्म बन सकती है जिसको कोई देखना पसंद नही करेगा। इसलिए फ़िल्म बनाने से पहले फ़िल्म की स्टोरी पर फोकस लगाओ।


1]  इम्पोर्टेड चीजे लें

 एक अच्छा कैमरा लेना फ़िल्म बनाने के सबसे इम्पोर्टेन्ट पार्ट  में से एक है! कई फिल्म निर्माताओं ने कुछ  professional फिल्मों को बनाने के लिए cheap कैमरों का उपयोग किया है। कुछ घरों के फुटेज फ़िल्म से रेलेटेड रखे हैं। आपको कैमरा के टाइप को डिसाईड करना होगा । इन कैमरो पर ज्यादा से ज्यादा और कम से कम खर्च हो सकता है । क्योंकि कुछ कैमरे लाखो के होते है तो कुछ हजारो में मिल जाएंगे । इसलिए जितना आप affort कर सके उतनाही महंगा कैमरा लें। आपको एक ऐसी कहानी के साथ एक फिल्म बनाने पर विचार करना होगा जो होममेड-लुक के साथ अच्छी तरह लोगों को पसंद आएगी। और लोग उसमे अपने आप को फील करेंगे तभी आपकी फ़िल्म सुपरहिट होगी।
loading...


2] अच्छे लोकेशन में फ़िल्म बनाए

फ़िल्म का लोकेशन फ़िल्म को सुपरहिट बनाने में मदद करता है इसलिए आप  जिन लोकेशन पर फ़िल्म बना सकते हो उन लोकेशन्स की लिस्ट बनाए। आप किसी कॉलेज से परमिशन लेकर उस कॉलेज में धमाकेदार फ़िल्म बना सकते है। यह तक कि आप चालाक स्क्रिप्ट के साथ सांसारिक लोकेशन में फ़िल्म बनाकर फ़िल्म को दिलचस्प कर सकते है। आप कई सीन फ्लैट और अपने घरों में कर सकते है और फ़िल्म के रात के शूट्स आप नाईट क्लब में भी कर सकते है।
आउटर स्पेस में फ़िल्म बनाना थोड़ा मुश्किल काम है इसलिए आपको उपलब्ध लोकेशन और उस लोकेशन पर फिट बैठने वाली स्टोरी पर ज्यादा फोकस लगाना होगा। इंडिया में अच्छे लोकेशन पर ज्यादा भीड़ रहती है इसलिए आपको भीड़ से भी डील करनी होगी इसलिए ऐसा लोकेशन चुने जहा कोई  आता जाता नही और फ़िल्म बनाने के लिए अच्छी हो इस वजह से बहुत सी बॉलीवुड की फिल्में बाहर देशो में बनाई जाती है ।


3] डिसाईड करे कि फ़िल्म की स्टोरी क्या बताती है

जब आप एक अच्छी फिल्म बनाना चाहते है तो आपको ऐसी स्टोरी पर फ़िल्म बनानी होगी जो लोगों को कुछ बता सके और सिख सके। आप फ़िल्म की कहानी कल्पनिक ले सकते है या सच्ची घटना पर आधारित फिल्म बना सकते है । आपको युवाओ के लिए फ़िल्म बनानी चाहिए। जैसे कि लव स्टोरी क्योंकि ज्यादातर युवा लोग ही टॉकीज में फिल्मे देखते है और सभी कपल को सच्ची घटनार आधारित लव स्टोरी पसंद आएगी।  आपको इस फ़िल्म में छोटा सा संदेश युवाओ को देने की जरुरत है जो उन लोगो के दिल को छू जाए तब वो दुसरो के आपकी फ़िल्म के बारे में बताएंगे और आपकी फ़िल्म का थेटर हाउसफुल हो जायेगा।

4] फ़िल्म की स्टोरी में आईडिया को डाले

एक ग्रेट आईडिया के बेस पर फ़िल्म बनाना बहुत इम्पोर्टेड बात है इसलिए आप उस आईडिया के आधार पर एक्टर, एक्टर को क्या करना चाहिये, बाकी के एक्टर्स  उनको कैसे बदल जा सकता है  इस बात को सिलेक्ट करे। अगर आप ये बाते सेलेक्ट कर सकते है तो आप एक ग्रेट आईडिया के बेस पर सुपरहिट फिल्म आसानी से बना सकते है। और पब्लिक को थिएटर तक खीचने में आपकी फ़िल्म को ज्यादा समय नही लगेगा।

5] बढ़िया स्क्रीनप्ले लिखे

एक अच्छा स्क्रीनप्ले फ़िल्म को हिट करने का सबसे इम्पोर्टेड पार्ट में से एक है । क्योंकि स्क्रीनप्ले फ़िल्म के सभी सीन को एक्टर एक्ट्रेस को  को एक बढ़िया तरीके से जोड़ता है और लोगों को फ़िल्म देखने मे बनाए रखने में मदद करता है। अगर आपका स्क्रीन प्ले बुरा होगा तो लोग आपकी फ़िल्म को बोर हो सकते है। इसलिए ऐसा स्क्रीनप्ले लिखे जो लोगों को फ़िल्म देखने के लिए बांध कर रखे। उस स्क्रीनप्ले में आप बढ़िया डायलॉग, बढ़िया लोकेशन और कैमरा मूवमेंट डाले जो फ़िल्म की स्टोरी को अधिक दिलचस्प बना सके।


6] कास्ट को सेलेक्ट करे

जब आप एक अच्छी फिल्म बनाते हैं तो एक अच्छी, ठोस योजना और कहानी प्राप्त करने के अलावा, आप सभी प्रोफेशियल अभिनेताओं को हायर करना  चाहते हैं। इसलिए आप फ़िल्म के हिसाब से अपने फ़िल्म के लिए कास्ट सेलेक्ट करे जो आपकी फ़िल्म को सूट होंगे है। अगर आप एक फैमिली फ़िल्म कर रहे है तो आपको ज्यादा कास्टिंग करनी होगी जैसे कि हम साथ साथ है फ़िल्म  में ज्यादा एक्टर को लिया गया था । यदि आप ने एक स्पेशल फिल्म बनाने की  प्रतियोगिता में फिल्म बनाने की योजना बनाई है, तो आप जो एक्टर अपनी एक्टिंग  के दम पर फ़िल्म चलाते है उनको ले सकते है ।


7] अपने रिसोर्स को तैयार करो

अब आपको अपने फ़िल्म का सेट, डायरेक्टर, एक्टर की वेशभूषा, ऐसी फिल्म बनाने के लिए सभी जरूरी बातो को तैयार करना होगा।  अगर फ़िल्म में आपको लोगो की भीड़ दिखानी है तो आप फ़िल्म के लिए फ़िल्म के सब्जेक्ट के आधार पर किराये पर भीड़ बुला सकते है।  क्योंकि इंडिया में किराए पर भीड़ बुलाना सबसे आसान काम है। अगर आपको एक्टर को पहाड़ पर चढ़ते हुए दिखाना है तो आपको vfx इफ़ेक्ट देने वाले टीम को सेट पर  बुलाना होगा। इसके लिये मूवी के लिए लोकेशन देने के लिए बैकग्राउंड सेट को तैयार करे।
loading...


8] फिल्मिंग

अब आप अपनी ग्रेट फ़िल्म बनाने के लिए रेडी है फ़िल्म के हर क्लिप के बाद उस क्लिप को एक सीन बनाकर ट्रिम करने के लिए बार बार रिकॉर्ड करते रहे और उस रिकॉर्ड को हर फुटेज के साथ जोड़ते रहे। अगर उस फुटेज में unwanted ऑडियो है तो एडिटिंग के समय उस ऑडियो को डिलीट कर दे और voiceover को जोड़े । आपको अपनी क्लिप को बेटर फ्लो करने के लिए lighting की आवश्यकता होगी और इसके बाद उस क्लिप को कंबाइन करे।


9] फ़िल्म को एडिटिंग करे

खराब फिल्म मेकर जल्दी से अपनी फिल्म को सिर्फ कैमरे के मदद से फ़िल्म को एडिट करते है । जिस के कारण फ़िल्म सही होने के बावजूद भी एडिटिंग खराब होने की वजह से फ़िल्म नही चलती। आपको फ़िल्म एडिटिंग करने के लिये कंप्यूटर में paid सॉफ्टवेयर की जरूरत होगी।  क्योंकि फ्री सॉफ्टवेयर फ़िल्म को बढ़िया एडिट नही कर सकता। आप विंडोज के फ़िल्म मेकर सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर सकते है जो आपको सभी फुटेज को एडिट करने में और सभी साउंड को मिक्स करने में मदद करेगा।
फ़िल्म की एडिटिंग होने के बाद आप उसमे इंटरवल डाले और फ़िल्म को दो पार्ट में डिवाइड करे। आप फ़िल्म में सभी लोग जिन्होंने फ़िल्म के लिए काम किया है उनका नाम डाले और फ़िल्म का एक फॉरमेट बनाये जो आप चाहते है। अब आप आपकी फ़िल्म पर पैसे कमाने के लिए आपके क्षेत्र को पिक्चर टॉकीज को उनका किराया देकर उस थेटर में आप अपनी फिल्म चला सकते है। जैसे मेरा एक दोस्त है नासिक महराष्ट्र का उसने 3 लाख रुपये फ़िल्म के लिए और प्रोमोशन के लिए खर्च किये और पिक्चर टॉकीज वालो को उनका किराया देकर उसने वहां फ़िल्म लगाई और उस फिल्म से उसने कुछ पैसे कमाए और बाद में पैसे आने के बाद उस फिल्म को अलग अलग शहरों में पिक्चर टॉकीज में लगाये और 3 करोड़ रुपयों से ज्यादा उसने उस फिल्म से कमाए। इसलिए आप भी अपनी फिल्म को पिक्चर टॉकीज में लगाये और उसके बाद यूट्यूब पर अपलोड करें।

लास्टली दोस्तो इस प्रकार आप फ़िल्म बनाकर अपना कैरियर बना सकते है और अपने आप को आगे बढ़ सकते है अगर आपका कोई सवाल है तो कम्मेंट में जरुर पूछे ।
Previous
Next Post »
Thanks for your comment