वार्तालाप ( बातचीत ) कैसे स्टार्ट करें - conversation kaise start kare ~ wiki hindi

वार्तालाप ( बातचीत ) कैसे स्टार्ट करें - conversation kaise start kare

दोस्तों हमारी लाइफ में हमारी अच्छी पहचान बनाने के लिए या नए दोस्त बनाने के लिए लोगो के साथ अच्छा कन्वर्सेशन करना जरूरी है। कुछ लोग अच्छी तरह से कन्वर्सेशन कर लेते है और सामने वाले का भरोसा जीत लेते है और अपनी पहचान बनाते है लेकिन कुछ लोगो के पास सही तरह से कन्वर्सेशन करने की स्किल नही होती इसलिए उनके लिए बातचीत करने के लिए अधिक प्रयासों की आवश्यकता होती है। लेकिन अगर आपको कन्वर्सेशन करने के बारे में स्किल नही है तो आपको टेंशन करने की जरूरत नही है क्योंकि आज हम आप इस आर्टिकल में कन्वर्सेशन करने के उस स्किल्स के बारे में जानेंगे जिसे जानकर आप सही तरह से कन्वर्सेशन कर पाएंगे और सामने वाले का विश्वास जीत पाएंगे।



वार्तालाप कैसे करें - conversation kaise kare

1]  बातचीत के चारे

दोस्तों वार्तालाप के लिए आपको दुनिया और स्थानीय मामलों में वर्तमान रहना होगा। अगर आपको वर्ल्ड की सभी समाचारों को विश्वास से परे दिखता है, तो आप हल्के दिल वाले अजीब समाचारों के साथ तैयार रह सकते हैं आप उन्हें ऑनलाइन वेबसाइटों पर या ऑनलाइन न्यूज़ पर सर्च कर सकते है।ददोस्तों ऐसी बात नही है कि सोशल कन्वर्सेशन में सीरियस मामले ओर करंट अफेयर लिमिट में होने चाहिए लेकिन आप इसे हद से ज्यादा नही कर सकते ताकि आपके बीच तनाव निर्माण न हो जाये।
loading...

2] बॉडी लैंग्वेज जरूरी है

दोस्तों सामाजिक जीवन मे वार्तालाप को अपने शब्दों से ज्यादा हमारी अच्छी बॉडी लैंग्वेज प्रभावी बनाती है। इसलिए दोस्तों वार्तालाप में आपको जो कहना है उसे प्रभावी बनाने के लिए सही तरह से बॉडी लैंग्वेज का उपयोग करें। क्योंकि वार्तालाप करते समय वार्तालाप को फ़्रेंडली बनाने के लिए बॉडी लैंग्वेज सबसे जरूरी बात है। दोस्तों बातचीत करते समय अपने शरीर को close रखने के बजाय रिलैक्स रखने की कोशिश करें । आपको बातचीत करते समय अपनी मुट्ठी नही पकड़नी चाहिए, अपनी आर्म क्रॉस नही करनी चाहिए,उन्हें ढीली रखें और शांति से इशारा करने जे लिए उनका इस्तेमाल करें। दोस्तों खड़े रहते समय स्ट्रेट खड़े रहने के बजाय आराम से खड़े रहने की कोशिश करें। जब आप बैठ जाते है तो अपने पैरों को ओर आर्म को क्रॉस न करें ओर आंखों को सलंग्न रखने की कोशिश करें और बातचीत करते समय  आईज कांटेक्ट करें। ओर बातचीत में अच्छा प्रभाव डालने के लिए मुस्कुराते हुए बातचीत करें। क्योंकि जब आप बातचीत करते वक्त मुस्कुराते है तब आप सामने वाले के लिए फ़्रेंडली बन जाते है। लेकिन यह मुस्कान हद से ज्यादा या डरावनी नही होनी चाहिए आपको सिर्फ प्यारिसी स्माइल देते रहना चाहिए जो बातचीत करते समय फेक न लगे बल्कि अनुकूल लगे।

बॉडी लैंग्वेज कैसे सुधारे

3] हास्य

बहुत से लोगों ने एक प्रकार का कवच विकसित किया है इसका वह सामाजिक स्थितियों में इस्तेमाल करते हैं ताकि उन्हें कई असहनीय परिस्थितियों से बचाया जा सके। लेकिन वह उस टाइप के बातचीत की स्किल में बातचीत को संलग्न मुश्किल से कर पाते है। दोस्तों हसी एक ऐसी बात है जो समाज के किसी भी गर्म इंसान को आपके प्रति ठंडा बना सकती है। दोस्तों हंसी के अलावा आपके आंसू भी आपके लिए सबसे पॉपुलर ओर पुराना कवच है जिसका उपयोग करना कभी कभी आपके लिए अच्छा है।

4] अच्छा श्रोता बने

दोस्तों वार्तालाप में ऐसा थोड़ी है सिर्फ आपको अपनी बाते दुसरो के सामने रखनी होगी या आपको ही बोलते रहना होगा। दोस्तों यकीन मानिए ऐसा करने से सामने वाला आपसे पक जा सकता है और आपसे उबग सकता है। इसलिए बातचीत को बेहतर बनाने के लिए आपको सामने वाले कि बाते भी सुननी होगी। जब आप आपकी बाते कहते है और उसकी बातें सुनते है तब वह इंसान आपसे बात करते समय इंटरेस्ट रखता है और उपस्थित रहता है। ऐसा करने से आप उस व्यक्ति के जीवन और शौक के बारे में भी जान सकेंगे। दोस्तों ऐक्टिवेट रहकर बातचीत सुनने से आपके कन्वर्सेशन को बेहतरीन बनाने में मदद होगी।

5] जो बात आप दोनों में कॉमन है उसके बारे में बातचीत करें

दोस्तों अगर आप दोनों को बॉलीवुड में इंटरेस्ट है और जब आप बॉलीवुड के बारे में बातचीत करेंगे तो यकीन मानिए आप दोनों में से कोई  बातचीत करते समय बोर भी नही होगा ओर आपका उस सब्जेक्ट के बारे में नॉलेज भी बढ़ेगा। दोस्तो यह सिर्फ एक उदाहरण था आप किसी भी टॉपिक पर बातचीत कर सकते है जो आप दोनों में कॉमन है। इसके लिए उससे बातचीत करते समय उन चीजो के बारें में पहचान करें जो आप दोनों में कॉमन है  क्योंकि किसी भी रिश्ते के लिए एक आम इंटरेस्ट के आस-पास तालमेल बनाना एक महत्वपूर्ण आधार हो सकता है।

6]  जब तक कि आप उस व्यक्ति को थोड़ा बेहतर नहीं जानते तब तक उसके साथ पॉलिटिक्स या धार्मिक मुद्दों के बारे में बातचीत न करें

दोस्तों इस बात को बातचीत करते समय ध्यान में रखना सबसे जरूरी है क्योंकि यह सबसे नाजुक विषय है जिनके बारे में गलत बातचीत करने से बातचीत कर रूपांतर झगड़े में बदल सकता है जिसे आप कंट्रोल नही कर सकते। दोस्तों जब तक आप किसी इंसान को करीब से नही जानते तब तक आपको बातचीत में इन जैसे नाजुक विषयो को शामिल नही करना चाहिए। क्योंकि इंडिया में पॉलिटिक्स ओर धर्म बहुत सेंसिटिव बाते है जिनकी थोड़ी भी गलत तरीके से बात करने से किसी को चोट पहुच सकती है। इसलिए इन विषयों के बारे में उन्ही लोगो के साथ बातचीत करें जिन्हें आप करीब से जानते है।
loading...

7] बातचीत करते वक्त उनकी तारीफ करें

दोस्तों यह भी बातचीत को बेहतर बनाने का बढिया तरीका है। दोस्तों बातचीत को बेहतर करने के लिए शब्दो मे बहुत ताकद होती है और लोग कभी भी आपके अच्छे शब्दो को भूल नही सकते जिनका इस्तेमाल आपने उनके लिए किया था। इसलिए जब आप आप किसी से बातचीत करते है उस समय आप उनकी सच्ची तारीफ करें आप उनकी खुबरूरती की, हेयर स्टाइल की या उनकी स्माइल की तारीफ करके उन्हें आपके प्रति फ़्रेंडली महसूस करवा सकते है। तारीफ कुछ ऐसी होनी चाहिए जो उनके लिए भूलना कठिन हो।

8] अगर लोग आपको याद नहीं करते हैं तब बुरा मत मानो

दोस्तों यह बात हमारे साथ कई बार हो सकती है जब आप किसी से मिलते है जिससे पहले मील हुए होते है लेकिन वह आपको पहचान नही पाते तब हमें बुरा नही मनना चाहिए। क्योंकि शायद हमारी पर्सनालिटी या बातचीत स्किल में ही कोई कमी होगी जिसकी वजह से वह आपको याद नही कर पा रहे है। इसलिए दोस्तों बुरा मानने के बजाय आप अपना ऐसा इम्प्रेशन बनाये जिसकी वजह से वह आपको नही भूल पाए। इसके लिये उन्हें याद दिलाएं कि आपके दोनों में क्या समान है या आप पहली बार कहाँ मिले थे। यह एक महान वार्तालाप स्टार्टर हो सकता है और भविष्य में उन्हें याद रखने में भी मदद कर सकता है।
दोस्तों इस तरह आप किसी के भी साथ वार्तालाप यानी बातचीत कर सकते है अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो इसे आप अपने उन दोस्तों के साथ शेयर करें जो दोस्त बातचीत करने के बारे में जानना चाहते है धन्यवाद।
Previous
Next Post »
Thanks for your comment