पीएमएस का इलाज कैसे करें - PMS ka ilaaj kaise kare ~ wiki hindi

पीएमएस का इलाज कैसे करें - PMS ka ilaaj kaise kare

 पीएमएस ऐसी बला है जो ज्यादातर महिलाओ पर इफ़ेक्ट करती है इससे हनमे मूड स्वेइंग ओर तनाव निर्माण होता है मूड के झूलों और अवसाद वास्तव में दुर्जेय हो सकता है। 10 टक्के लड़कियों में पीएमएस का पीएमडीडी या प्रीमेन्स्ट्रिअल डिस्फेरिक विकार में बदल हो सकता है। पीएमएस के लक्षणों में स्तन कोमलता, सूजन, शामिल है मूड में परिवर्तन तब होता है जब महिला के मासिक धर्म का प्रवाह शुरू होता है। लेकिन अगर आप पीएमएस को फेस कर रहे है तो कोई चिंता नही क्योंकि हर चीज का इलाज होता है।  आज हम इस आर्टिकल में उन तरीको के बारे में जानेंगे जिन्हें आजमाने से आप पीएमएस का इलाज कर सकती है।

पीएमएस का इलाज कैसे करें - PMS ka ilaaj kaise kare

1] फैट खाना कम करें

फ़ूड फैट के अतिसंवेदनशीलता के कारण यकृत की खराबी हो सकती है। इसलिए फैट युक्त पदार्थो को खाने के बजाय आप मछली, दुबला मांस, समुद्री भोजन, नट, और बीज जैसे पदार्थ खाएं। इसके अलावा, आपको अपने आहार में चावल, फल, साबुत अनाज और सब्जियां भी शामिल करनी चाहिए।
loading...

2] रेगुलर एक्सरसाइज करें

पीएमएस से निपटने के लिए आपको रोजाना एक्सरसाइज करने की जरूरत है। क्योंकि पीएमएस के लक्षणों को रोकने के लिए व्यायाम आवश्यक है । ज्यादा नही आप सुबह उठकर वाकिंग, जॉगिंग, रनिंग, स्विमिंग जैसी एक्सरसाइज से भी अपने मन और शरीर को स्वास्थ बना सकते है। यह एक्सरसाइज मूड स्विंग्स के साथ बेहतर सामना करने में आपकी सहायता कर सकती हैं।

3] स्ट्रेस को न लें

 स्ट्रेस से बचकर भी आप पीएमएस से छुटकारा पा सकते है क्योंकि तनाव पीएमएस लक्षणों को बदतर बना सकते हैं।   इसलिए पीएमएस पर काबू नहीं पाने के लिए स्ट्रेस को मैनेजमेंट करना जरूरी है।   स्ट्रेस को मैनेज करने के लिए आप अपने पसन्द के गाने सुने, सिंगिंग करें, बाहर घूमने जाए, मेडिटेट करे, योगा करें और एक्सरसाइज करें। इस सभी बातों को करके आप आसानी से अपने स्ट्रेस को मैनेज कर सकते है और पीएमएस से निपट सकते है।

तनाव को कम कैसे करें 

4]  कैल्शियम सप्लीमेंट लें

 पीएमएस का इलाज करने का कैल्शियम सप्लीमेंट लेना भी बहुत अच्छा तरीका है। क्योंकि पीएमएस पूरक पदार्थों में से एक सबसे महत्वपूर्ण कैल्शियम है। कैल्शियम से  पीएमएस के लक्षणों को कम करने से  मूड के झूलों और सूजन कम हो सकती है। इसके साथ कैल्शियम सप्लीमेंट ऑस्टियोपोरोसिस को भी रोक सकता है इसके अवशोषण को सुगम बनाने के लिए आपको कैल्शियम के साथ मैग्नेशियम भी लेना चाहिए।

5] हर्बल टी पिये

हर्बल टी पीना भी पीएमएस का इलाज करने का बेहतरीन तरीका है। इसलिए सोने से पहले आप दालचीनी चाय या कैमोमाइल चाय पिये। अगर आप मीठी चाय पीना पसन्द करते है तो उस चाय में थोडासा शहद मिलाएं। यह आपको एक अच्छी नींद लेने और पूरी तरह से आराम करने में मदद करेगी।  इसे पीने से भी पीएमएस लक्षणों पारी तरह से हट जायेगे।

पढ़ें: अपने शरीर को अल्कलीज कैसे करें

पढ़ें : शराब की लत कैसे छोड़े

पढ़ें : कैलरीज को कैसे कम करे

6] अल्कोहल, कैफीन और नमक को लिमिट में लें

अगर आप शराब कैफीन या नमक को ज्यादा मात्रा में लेते है तो हम आपको सलाह देते है कि इन पदार्थों को लिमिट में लें। क्योंकि शराब और कैफीन से  डिहाइड्रेटिंग होती है। शराब और कैफीन पीने से हम बहुत ज्यादा थकान महसूस करते है। ओर ज्यादा नमक वाले पदार्थ पानी के प्रतिधारण और सूजन के लिए कारण बनते है। इसलिए अगर आप पीएमएस की अवसाद से निपटना चाहते हैं, तो इन जैसे पदार्थो की एक लिमिट बनाये ओर उत्तेजक से दूर रहें । हर्बल, डिकैफ़िनेटेड या हरी चाय पीने से स्वस्थ, प्राकृतिक और संतुलित आहार को फॉलो करें।
loading...

7] अच्छी नींद लें

 अच्छी नींद लेना हमारे शरीर के लिए ओर हमारी थकान को मिटाने के लिए बहुत ही जरूरी है। इसलिए आप रोजाना रात को 8 घंटे की कम से कम नींद लें। जब आप अच्छी नींद नही लेते है तब प्रमेस्टर्सल सिंड्रोम के लक्षण दिखाई देंगे जो आपको जलन और थकान जैसी मुसीबतें देगे। इसलिए अगर आप पीएमएस को फेस कर रहे है और इससे निपटने चाहते है तो आपके लिए अच्छी नींद लेना ही सबसे महत्वपूर्ण बात है। इसलिए अच्छी नींद प्राप्त करना पीएमएस के इलाज के तरीके में से सबसे बेहतरीन तरीका है।

आप इसी तरह पीएमएस जैसी समस्याओं का इलाज कर सकती है।  अगर आपको यह तरीके अच्छे लगे है तो आप इन्हें अपने उन सहेलियों के साथ शेयर करें जो पीएमएस का सामना कर रही है।
Previous
Next Post »
Thanks for your comment