जुनूनी विचारों को कैसे रोके - obsessive thoughts ko kaise roke ~ wiki hindi

जुनूनी विचारों को कैसे रोके - obsessive thoughts ko kaise roke

जुनूनी विचार आम तौर पर  चिंताओं, भय या हिंसक स्थितियों से संबंधित आवर्ती विचार हैं जो आपको अन्य बातों पर अपना ध्यान केंद्रित नहीं करने देते हैं। यह विचार हमारे मन मे किसी बात की अत्यधिक चिंता और डर की वजह से आते है और यह विचार हमारे लिए बहुत ही खतरनाक साबित हो सकते है।  इसलिए हमारे लिए इन्हें रोकना ही आवश्यक है। अगर आप अपने अंदर के जुनूनी विचार को रोकना चाहते है तो इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़े और नीचे दिए गए तरीको को आजमाए ताकि आप जुनूनी विचार रोक सके ओर एन्जॉय से अपनी लाइफ जी सकें।

जुनूनी विचार कैसे रोके - obsessive thoughts kaise roke


1] ध्यान करें

दोस्तों ध्यान करना सभी प्रकार के विचार को ओर यहा तक कि जुनूनी विचार को रोकने का सबसे बढ़िया तरीको में से एक है। इसलिए अगर आप इन विचार को रोकना चाहते है तो ऐसी जगह बैठे मेडिटेड करें जहा शांति हो। पहली पहली बार आपके लिए ध्यान करना मुश्किल हो सकता है। लेकिन प्रैक्टिस के बाद आप आसानी से ध्यान कर सकते है। आप गहन ध्यान केंद्रित करने के लिए लंबी सांस लें और अपना पूरा ध्यान अपनी सांस की ओर खिंचे। इस तरीके से आप अपने सभी प्रकार के यहां तक कि जुनूनी विचार को भी रोक सकते है।
loading...

2] इसके बारे में ज्यादा मत सोचो

दोस्तों जिस चीज के बारे में आपको डर होता है उस चीज के बारे में ज्यादा सोचने से ही इस तरह के विचार आते है । इसलिए इन विचार को रोकने के लिए उस चीज के बारे में न सोचें जिस चीज की वजह से आप यह जुनूनी विचार कर रहे है। इसलिए आप ऐसी चीजो को अपने माइंड में न रखें जिसके कारण आपके जुनूनी विचार होते है।

3] जो हुआ है उसे स्वीकार करें

दोस्तों हमारे साथ ऐसी घटना हो जाती है जिसे हम स्वीकार नही कर पाते और यही बात जुनूनी विचारों को बढ़ावा देती है । इसलिए उस घटना को स्वीकार करके उन विचारों को बढ़ावा मिलने से रोक लें। अगर आपसे अतीत में कोई गलती हुई है तो उस गलती को लेकर बैठकर जुनूनी विचार को न बढ़ाये इसके बजाय भुतकाल में हुई अपनी गलतियों को स्वीकार करके उनसे सिख प्राप्त करके भविष्य में उस सिख का उपयोग करें।

4] एक्टिव रहे

जो इंसान हमेशा वर्तमान समय मे एक्टिव रहता है उसे जुनूनी विचार कभी नही आते।  इसलिए एक्टिव रहना भी जुनूनी विचारों को रोकने का बढ़िया तरीका है। आप एक्टिव रहने के लिए फिजिकल एक्सरसाइज, योगा या स्पोर्ट खेल सकते है जो आपको एंटीडिप्रेसेंट पावर देता है जो जुनूनी चिंताओं से लड़ने में हमारी मदद करता है। रनिंग, साइकिलिंग,  स्विमिंग, जॉगिंग ओर डांसिंग जैसी एक्सरसाइज एंडोर्फिन को बढ़ावा देती है जो हमारी सभी तरह की जुनूनी चिंताओं को कम करता है।

5] अपने माइंड को डाइवर्ट करें

जुनूनी चिंताओं को रोकने के लिए अपने माइंड को डाइवर्ट करना भी जरूरी है। जब आप अपने माइंड को अलग अलग गतिविधियों में डाइवर्ट करके एंगेज रहेगे तो आप आसानी से अपनी जुनूनी चिंताओं को रोक पाएंगे। जुनूनी विचार को रोकने के लिए दिमाग पर कब्जा करना बहुत जरूरी है।  इसलिए आप अपनी नई नई हॉबीज बनकर दिमाग पर कब्जा कर सकते है और जुनूनी विचार को रोक सकते है।

पढ़ें : अपने शौक कैसे चुनें

पढ़ें : अकेलापन को दूर कैसे करें

पढ़ें : आत्मविश्वास कैसे बढ़ाए

6] रिलैक्स रहना सीखें

जो इंसान किसी भी स्थिति में रिलैक्स रहता है उसे कभी भी जुनूनी चिंताएं नही आती।  इसलिए आपको भी जुनूनी विचार को दूर करने के लिए रिलैक्स रहना सीखना होगा। आप रिलैक्स रहने के लिए योगा जैसी एक्टिविटीज कर सकते है जो चिंता को कम कर सकती है और अपने जुनूनी विचारों को भी रोक  सकता है।
loading...

7] मेडिसिन ले

बहुत से लोगो को उनके हद से ज्यादा जुनूनी विचार को रोकने के लिए मेडिसिन दी जाती है। इसलिए मेडिसिन भी जुनूनी विचारों को रोकने का सबसे पॉपुलर तरीको में से एक है। अगर आपको कोई भावनात्मक ठेस पहुची है और इसके कारण ऐसे विचार आ रहे है तो आपको चिकित्सक हेल्प लेने की जरूरत है। आप बिना डॉक्टर की सलाह लिए यह दवाएं न ले । क्योंकि बहुत सी दवाईयों में साइड इफ़ेक्ट भी हो सकता है।  इसलिए साइड इफ़ेक्ट के दुष प्रभाव से बचने के लिए अपनी फैमिली डॉक्टर से इसके बारे में बात करें। आप आयुर्वेदिक जड़ीबूटियो से भी दवा बनाकर अपने जुनूनी विचार को रोक सकते है।

दोस्तों इसी तरह आप अपने जुनूनी विचार को रोक सकते है।  अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो इसे आप अपने फेसबुक पर उन दोस्तों के साथ शेयर करें जिन्हें जुनूनी विचार आते है और आप उन्हें इन विचार से निपटते हुए देखना चाहते है।
Previous
Next Post »
Thanks for your comment