किसी को काम करने से मना कैसे करें : No कहना सीखें ~ wiki hindi

किसी को काम करने से मना कैसे करें : No कहना सीखें

 किसी को मना करना या no कहना बहुत से लोगों को मुश्किल लगता है क्योंकि यह तनाव और कभी-कभी चिंता भी देता है। आप उन्हें avoid करना पसंद करते हैं  लेकिन इसके साथ आप अपने हाथों से अपने फैसलों पर नियंत्रण का हिस्सा देते हैं। न कहना कोई कला नही है और आपको इसमे मास्टर करने की जरूरत भी नही है। मानव प्रकृति और अभ्यास में थोड़ी अंतर्दृष्टि के साथ आप अपने हां और नहीं पर नियंत्रण रखना सीखते हैं।

किसी को काम करने से मना कैसे करें : No कहना सीखें

ना कहते समय तनाव में न रहें

जब आप एक कप कॉफी पी रहे हैं तब कोई आपको ब्रेक की शुरुआत में कुछ बात करने के लिए पूछता है तो आप नोटिस करते हैं कि आप यह नहीं चाहते हैं, क्योंकि आप कॉफी पीकर अपने सिर को क्लियर करने की योजना बना रहे हैं।  लेकिन बाद में एक सेकंड का अंश से  सभी प्रकार के विचारों और भावनाओं के लिए पूरी तरह से आपके दिमाग का पूरी तरह से इलाज किया जाता है। तब आप सोचने लगते है कि, अगर में ना कहूं तो वह क्या सोचेंगे, अगर में मना करू तो उसके क्या परिणाम होंगे। और इस बात का आप टेंशन लेते है जिसके बारे में टेंशन लेने की आपको जरूरत ही नही हैं।
loading...

2] लोग ग्रुप में सेफ्टी  चाहते हैं

इतिहासकार और दार्शनिक युवल नूह हरारी अपनी पुस्तक सैपीन्स में बताते हैं कि लोगों के पास सामाजिक प्रवृत्तिया होती हैं। यह उन्हें एक साथ काम करने और एक साथ रहने की अनुमति देता है और समूह सुरक्षा प्रदान करता है। जब लोग अभी भी जंगली जानवरों के बीच रह रहे थे, तनाव और चिंता महसूस करना एक बहुत ही उपयोगी चेतावनी संकेत था। यह आपको बताता है कि आप संभवतः खतरनाक मैदान पर थे।

3] आप गहराई से सोचने वाले एक व्यक्ति हैं

स्कूल फॉर बीइंग ओरिएंटेड के संस्थापक हंस निबबे कहते हैं कि लोग उनके 'duality के डर' से बचना पसंद करते हैं। यह समूह की सुरक्षा के बाहर संलग्न होने और डर के लिए गहरी भावनात्मक आवश्यकता से होता है। यह समूह की सुरक्षा के बाहर संलग्न होने और डर के लिए गहरी भावनात्मक आवश्यकता से होता है। आप सोचते है की, केवल तभी जब आप पर्याप्त सुरक्षित महसूस करते हैं, तब आप अपनी व्यक्तिगत इच्छा, अपनी इच्छानुसार दिखने की हिम्मत करते हैं। लेकिन यह केवल उनके अनुसार यह अनुलग्नक एक भ्रम है, क्योंकि आप गहराई से सोचने वाले एक व्यक्ति हैं। इसलिए, No कहना सीखने के लिए हद से ज्यादा गहराई से सोचने वाले व्यक्ति न बनें।

4]  विवादित इच्छाओं के कारण तनाव न लें

जब दो विरोधी इच्छाओं का परिणाम होता है तब तनाव उत्पन्न होता है। जब आप ओर आपके सामने वाले व्यक्ति की सोच अलग अलग है और आपको उसकी सोच मान्य नही होती है तब आप उसे हा कहके तनाव का सामना करने के बजाय उसे No कह दे और अपनी राय उसके सामने रखें।
loading...

5] आपको चुनना होगा

अगर आप No कहने के लिए तनाव महसूस करते है तब आप अपने विश्वास के खिलाफ एक असुरक्षित एरिया में जाते है। Rosling और Knibbe की अंतर्दृष्टि नकारात्मक वोट प्रदान करते हैं। आप जो भी फैसला करते है उसके बारे में लॉयल रहें अपने चॉइस पर भरोसा रखें ताकि आप सुरक्षित एरिया में रहें और अपने पैरों के नीचें की मिट्टी न फिसले। आप अपने फैसले लेने के लिए स्वतंत्र है इसलिए आप जो चाहते हैं उसे प्राथमिकता दे। अपने फैसले लेते समय तनाव लेने से आप गलत सौदा कर सकते हैं। आप अपने निमंत्रण के लिए अपनी प्रशंसा व्यक्त करके इस तनाव को भी छोटा कर सकते हैं। इस तरह आप अभी भी अपने तरीके से चलते हुए उसके साथ मिलकर रह सकते हैं।

Read Related Articles

पढें : बॉडी लैंग्वेज कैसे सुधारे 

पढें : अरबपति कैसे बनें 

पढें : नए लोगों से कैसे बातें करें 

6] कभी कभी ना कहना भी हा कहने जैसा होता है

जब आप जो चाहते है उसे कवर नही कर सकते तब अपना रास्ता तय करने से आप असुरक्षित महसूस कर सकते हैं। अगर आपके सामने वाले व्यक्ति की कॉफी पीने की इच्छा है और आप ना  कहने के इच्छा के अनुसार हा कहके सेफ रह सकते हैं। आप ना कहने की इच्छा के अनुसार हां बाद में पियेंगे ऐसा कहके अपने फैसले पर नियंत्रण रख सकते हैं।

 अगर आपको यह लेख पसन्द आया है तो इसे आप  अपने रिश्तेदारों के साथ फेसबुक, whatsapp जैसी सोशल मीडिया साइट पर शेयर करें ताकि उन्हें भी यह जानकारी मिल सकें। और रोजाना नई हेल्पफुल जानकारी के लिए आप wikihindi.org.in हमारी साइट को विजिट करें और इस साइट के बारे में अपने रिश्तेदारों को भी बताए ताकि उन्हें भी रोजाना नई नई जानकारी मिल सके।
Previous
Next Post »
Thanks for your comment